Shravan Mahadev Shayari

Arrow
Arrow

Shravan Mahadev Shayari

"विश्वास का पर्व बनकर आयेगा, ये श्रावण महादेव की गंगा महकायेगा।।। भीगेंगे बूंदों से मंदिरों के द्वार, मेरे भोलेनाथ की भक्ति से होगा हर कोई पार।।"

Arrow

Shravan Mahadev Shayari

डमरू के नाद बजने लगे हैं, भोले के भक्त भगवान को पुकारने लगे हैं।। बिखरेंगे दुःख के पल अब, सर जिसके महादेव के शरण हो जायेंगे।।

Arrow

Shravan Mahadev Shayari

एक दिन का ये पर्व नहीं, ये मौसम है, पूरे श्रावण मास का।। संगीत होगा और भक्ति में लीन भक्त होंगे, उत्साह होगा भक्त का, नाम सिर्फ भोलेनाथ का।।

Arrow

Shravan Mahadev Shayari

ये आस्था है, ये सनातन के पथ पर साधू है।। जहाँ हार जाये व्यवहारिक संसार, वहाँ संभव भगवान का जादू है।।

Arrow

Shravan Mahadev Shayari

अच्छा हुआ की कुछ शर्तों से माँ ने हाथ जोड़ना सीखा दिया।। कम से कम श्रावण मास में साथ मेरे चमत्कार है ।।

Arrow

Shravan Mahadev Shayari

ये छाँव जो बन जाती है ना सर झुका लेने से, महादेव किस भोलेपन से सवार देता है - ये हर भक्त जानता है।।

Arrow

Shravan Mahadev Shayari

मेला लगेगा जब श्रावण का, भीड़ मिलेगी बस एक पर्व से।। कहेगा हर इंसान अपनी पहचान में, भोले के भक्त है हम गर्व से।।।

Arrow

Shravan Mahadev Shayari

निस्वार्थ प्रेम बरसना जरूरी है, इंसान को इंसान बनने भक्त होना जरूरी है।। श्रावण सोमवार का पर्व मनाना जरूर, खुदमें बसे भक्त को जीना जरूरी है।।

Arrow

Shravan Mahadev Shayari

भक्ति से भीगकर जब श्रावण आयेगा, भक्त से पूछ, जहाँ किस तरह सवर जायेगा।