New Best Hindi Kavita On Life Images

Published by Rutha Aashiq on

Hindi Kavita On Life Images

Ruthaaashiq “hindi kavita on life” ko hamesha se pasand karta hai. Aaj ki guest post me hum aap me se ek writer ki “new hindi poem” present kar rahe hai. Not so popular but quality write up ho sakti hai. Hum bheed ki kahaani ki vibe “poem hindi mein” laa rahe hai. Aapko agar lafz me jazbaat samje aur heart to heart connect ho toh comment jarur kijiyega.

Hindi Kavita On Life | एक उम्र (Ek Umra)

एक उम्र बीत गयी,
मकानों को घर बनाने में,
Ek umra beet gayi ,
Makaano ko ghar banane mein

एक उम्र बीत गयी ,
आदमियों को इंसान बनाने में,
Ek umra beet gayi ,
Admiyon ko insaan banane mein

और जब मुड़के देखा उन दिनों में ,
एक सोच ने दस्तक दी निराश दिलों में ,
Aur jab mudke dekha un dinon mein
Ek soch ne dastak di nirash dilon mein

आखिर कौनसा था घर उसका ?
वो, जहाँ उसका बचपन बीता ?
या वो , जहाँ उसने बच्चों को पाला?
Akhir Kaunsa tha ghar uska ?
Woh , jahan uska bachpan beeta ?
Ya woh , jahan usne bachon ko paala?

सवाल वहीं है उस मासूम से दिल में ,
खोज आज भी है उसकी खामोश सी आँखों में ,
Sawal wahin hai us masoom se dil mein
Khoj aaj bhi hai uski khamosh si ankhon mein

एक उम्र तो बीत गयी घर और इंसान बनाने में ,
शायद ‘एक उम्र बाकी है खुदका आशियाँ बनाने में …’
Ek umra to beet gayi ghar aur insaan banane mein
Shayad ‘Ek umra baaki hai khud ka aashiyaan banane mein …’

New Best Hindi Kavita On Life Images
New Best Hindi Kavita On Life Images

Download Image

New Hindi Poem | नन्हे पाँव (Nanhe Paanv)

क्यों पराया अपना ही आंगन है।
क्यों फर्क नहीं पड़ता की क्या उसका मन है।
Kyu paraya apna hi angan hai ,
kyu fark nahi padta ki kya uska man hai

क्यों सपने उसके, बंद दीवारों में खो गए,
क्यों ख्वाब बिन जागे ही सो गए।
Kyu sapne uske , band diwaron mein kho gaye ,
Kyu khwaab bin jaage hi so gaye

उड़ने के लिए मांगे थे पंख , जो अब टुटके कही बिखर गए ,
दुनिया घूमने वाले कदम अब ज़ंजीरों में कैद हो गए।
Udne ke liye mange the pankh , jo ab tutke kahi bikhar gaye
Duniya ghumne wale kadam ab zanzeeron mein kaid ho gaye

रंग भरी थी ख्वाइशें पर बस लाल ज़िन्दगी का रंग हुआ .
रौशनी की तलाश में मिला बस अंधेरो से भरा एक खली कुआ।
Rang bhari thi khwaishein par bas laal zindagi ka rang hua .
Roshni ki talaash mein mila bas andhero se bhara ek khali kua.

ख्वाब देखा एक रात उसने की टूट गयी पैरो की बेड़ियाँ ,
भाग धुन में लिए कंधे पे बस्ता, मस्ती में घूमे वो गाओं की गलियां।
Khwaab dekha ek rat usne ki tut gayi pairo ki bediyaan
Bhaag dhun mein liye kandhe pe basta , masti mei ghume wo gaon ki galiyaan

किताबों की दुनिया में उसने मन था लगाया अपना ,
छोटी छोटी आँखों से देख रही है वो पैरों पे खड़े होने का बड़ा सा सपना।
Kitabon ki duniya mein usne man tha lagaya apna
Choti choti ankhon se dekh rahi hai wo pairon pe khade hone ka bada sa sapna.

दौड़ रही थी सड़को पे , हाथ सियाही लिए,
अँधेरे कुए नहीं , पर जल रहे थे उज्वल दिए।
Daud rahi thi sadko pe , hath siyahi liye
Andhere kuye nahi , par jal rahe the ujwal diye

अचानक एक आवाज़ से नींद थी उसकी टूट गयी,
फिर एक करवट में ज़िन्दगी थी बिखर गयी।
Achanak ek awaz se neend thi uski tut gayi
Phir ek karwat mei zindagi thi bikhar gayi

आंखें मल , देख रही थी इधर उधर,
सोच रही थी हाथों की किताबें आखिर गयी किधर।
Ankhein mal, dekh rahi thi idhar udhar
Soch rahi thi hathon ki kitabein akhir gayi kidhar.

एहसास हुआ जब हक़ीक़त का अपने ,
टूट गए फिर वह प्यारे से सपने।
Ehsaas hua jab haqiqat ka apne
Tut gaye phir woh pyare se sapne

न कोई बस्ता, न कोई सियाही, न कोई किताब थी।
हिस्से में उस मासूम के बस अनेक ज़िम्मेदारी रही।
Na koyi basta , na koyi siyahi , na koi kitaab thi
Hisse mein us masoom ke bas anek zimmedari rahi.

धुप भरी जीवन में ढूंढे वो थोड़ी सी छाओं,
ना जाने कब छूट पायगे ज़ंजीरों से उसके यह नन्हे पाँव।
Dhoop bhari jeevan mein dhunde wo thodi si chaon
Naa jaane kab chhut paayge zanzeeron se uske yeh nanhe paanv .

New Best Hindi Kavita On Life Images
New Best Hindi Kavita On Life Images

Download Image

Poem Hindi Mein | कागज़ की कश्ती (Kaagaz ki kashti)

पानियों पे तैरती, पानियों में डूबती,
कभी अटकती तो कभी मस्ती में चलती ,
कच्ची थी , कमज़ोर थी , पर खुशियां थी लाती ,
कभी आंसू तो कभी हसी थी बिखेरती,
अनोखी थी, हलकी थी, सूंदर थी दिखती।
Paaniyon pe tairti , paaniyon mein doobti ,
Kabhi atakti to kabhi masti mei chalti ,
Kacchi thi , kamzor thi , par khushiyan thi laati
Kabhi ansu to kabhi hasi thi bikherti ,
Anokhi thi, halki thi , sunder thi dikhti

मेरी आंखें आज भी उस मंज़र को तरसती , आखिर कहाँ गयी वो उम्र की ख़ुशी,
वो प्यारी सी मस्ती ? कहाँ गयी वो नाज़ुक सी कागज़ की कश्ती?
Meri ankhein aaj bhi us manzar ko tarasti , akhir kaha gayi wo umar ki khushi ,
wo pyari si masti ?
Kahan gayi wo nazuk si kaagaz ki kashti ?

बचपने की जब लहर थी,
रिश्तों की जब कदर थी,
दुनियादारी की न कोई फ़िक्र थी,
लड़कपन की एक उम्र थी।

Bachpane ki jab leher thi,
Rishton ki jab kadar thi,
Duniyadaari ki na koi fikar thi,
Ladakpan ki ek umar thi,

न कोई बंधन न कोई पहरे थे ,
न कोई मुखोटे बस असली सबके चेहरे थे।
Na koi bandhan na koi pehre the,
Na koi mukhote bas asli sabke chehre the.

जब खुशियों की आबादी थी।
हर सपनो की आज़ादी थी।
ख्वाइशें ज़्यादा ,
पर ज़िन्दगी में सादगी थी।
Jab khushiyon ki abadi thi ,
Har sapno ki azadi thi,
Khwaishein zyada ,
par zindagi mein saadgi thi.

ना आगे दौड़ने की लत थी।
ना कोई दिखावे की आफत थी।
ना लालच , ना कोई खोट था ,
मरहम थे अनेक, एक ही जब चोट था।
Naa aage daudne ki lat thi,
Naa koi dikhawe ki afat thi ,
Na lalach , na koyi khot tha ,
Marham the anek , ek hi jab chot tha.

सन्नाटें नहीं शोर थे हर छोटे बड़े घरों में ,
अब तो बस छुपी है बड़े बड़े से इन शहरो में।
Sannatein nahi shor the har chote bade gharo mein,
Ab to bas chupi hai bade bade se in shehero mein.

तस्वीरों में मुस्कराहट असली थी।
आँखों में ख़ुशी सच्ची सी थी।
Tasveeron mein muskurahat asli thi,
Ankhon mei khushi sacchi si thi.

छोटी छोटी चीज़े पाके दिल खुश हुआ करता था।
कच्चे डोरी से बंधा हर रिश्ता जब मज़बूत हुआ करता था।
Choti choti cheeze paake dil khush hua karta tha,
Kacche dori se bandha har rishta jab mazboot hua karta tha.

ख्याल फिर यूँही उन बीतें दिनों का यूँ आया।
बचपन और बचपने की एक लहर अपने संग था लाया।
Khyaal phir yuhi un beetein dinon ka yun aya ,
Bachpan aur bachpane ki ek leher apne sang tha laya.

बैठ खिड़की के सिरहाने अब देखती हूँ बहार जब ,
दुनिया की दौड़ में दिखती है बस भागती भीड़ तब।
Baith khidki ke sirhane ab dekhti hu bahar jab,
Duniya ki daud mei dikhti hai bas bhagti bheed tab.

सडको पर अब सिर्फ भागती गाड़िया है मुझे दिखती ,
अब फिर मेरी रूह उन बीतें दिनों को है तरसती।
Sadako par ab sirf bhagti gaadiya hai mujhe dikhti,
Ab phir meri rooh un beetein dinon ko hai tarasti.

ढूंढे आंखें मेरी ,
वह उम्र की ख़ुशी,
वह प्यारी सी मस्ती,
वह नाज़ुक सी खोयी हुई कागज़ की कश्ती ।
Dhunde ankhein meri,
woh umar ki khushi ,
woh pyari si masti ,
woh nazuk si khoyi hui kaagaz ki kashti .

New Best Hindi Kavita On Life Images
New Best Hindi Kavita On Life Images

Download Image

Hindi Kavita On Life | कविता – ओस की बूंद (Poem ~ Os ki Boond )

एक नन्हीं सी ओस की बूंद थी,आसमान से थी बरसी,
जमीन पर गिरते ही अपना अस्तीत्व थी ढूंढती।
Ek nanhi si os ki boond thi , asmaan se thi barsi ,
zameen par girte hi apna astitva thi dhundti.

पत्ते पत्ते डाली डाली पर वो थी भटकती,
कहीं मिल जाए बसेरा ऐसा थी वो देखती।
Patte patte , daali daali par wo thi bhatakti ,
kahi mil jaaye basera , aisa khwaab thi dekhti.

हवाऔं ने अचानक रूख बदला, तूफानी सी हवा हुई ,
लहराने लगी शाखौं के साथ,वो भी डर सी गयी।
Hawayon ne achanak rukh badla , tufaani si hawa huyi ,
lehraane lagi shaakho ke sath , wo bhi dar si gayi

ओस की बूंद थी नाजुक सी,न संभाल पाई खुद को गिरने से,
आखिर आ ही गयी जमीन पर, डालियों के टूटने से।
Os ki boond thi nazuk si , na sambhaal paayi khud ko girne se ,
akhir aa hi gayi zameen par , daaliyon ke tootne se.

जमीन नहीं वो मिट्टी थी जहां जाके गिरी थी वो बूंद,
शायद अब मिल गया उसको उसका अस्तीत्व जिसे वो कब से रही थी ढूंढ।
Zameen nahi wo mitti thi jaha jake giri thi wo boond ,
Shayaad ab mil gaya use uska astitva jise wo kab se rahi thi dhund.

मिट्टी में मिला उसको उसकी जिंदगी का मकसद,
नन्हीं सी ओस की बूंद को मिली नयी ताकत।
Mitti mein mila use uske zindagi ka maksat,
Nanhi si os ki boond ko mili nayi taakat.

सींचा मिट्टी में कैद बीजों को प्यार से उसने,
धूप की मदद से एक मजबूत पेड़ बनाया उसने,
Seencha mitti mei kaid beejo ko pyar se usne ,
dhoop ki madad se ek mazboot pedh banaya usne.

पेड़ रहा खडा़ उस मिट्टी पर हमेशा मगर,
वो ओस की बूंद भी हो गयी उसके साथ ही अमर ।
Pedh raha khada us mitti par hamesha magar,
woh os ki boond bhi ho gayi uske sath hi amar.

New Best Hindi Kavita On Life Images
New Best Hindi Kavita On Life Images

Download Image

New Hindi Poem | कविता – फरिशते (Poem – Farishte)

आसमानों से जैसे उतरे हैं दो फरिशते ,
जिन्दगी के मिले मुझे दो सबसे अनमोल रिश्ते।
Aasmaano se jaise utre hain do farishte,
Zindagi ke mile mujhe do sabse anmol rishte.

जन्नत सा जहाँ मेरा है इनके होने से ।
डर लगता है बस इन्ही को खोने से।
Jannat sa jahaan mera hai inke hone se,
dar lagta hai bas inhi ko khone se.

खुशियाँ हो , हसीं हो, मस्ती हो जहाँ ।
सच इनके होने से ही हसीन है मेरा ये आशियां।
Khushiya ho , hansi ho , masti ho jahaan,
sach inke hone se hi haseen hai mera ye aashiyan.

शुक्रिया उस रब का करती हूँ हर दफा मैं ।
बिन माँगे मिले है मुझे ये मेरी दुआ में।
Shukriya uss rab ka karti hoo har dafa main,
bin maange mile hai mujhe ye meri dua me.

महफूज़ सदा रहे हर दुख हर तकलीफ से।
दिल रोता है मेरा भी इनकी हर उदासी से ।
Mehfooz sadaa rahe har dukh har takleef se,
dil rota hai mera bhi inki har udaasi se.

अब हर दुआ में दिल मांगे इनकी ही खुशी ।
घर में गुंजती रहे हमेशा इनकी हँसी।
Ab har dua me dil maange inki hi khushi,
ghar me goonjti rahe hamesha inki hansi.

दिलो के बंधन से बंधे अनमोल है ये रिशते।
आसमानों से जैसे उतरे हैं मेरे लिए, दो खूबसूरत फरिशते।
Dilo ke bandhan se bandhe anmol hai ye rishte,
aasmaano se jaise utre hain mere liye, do khoobsurat farishte .

New Best Hindi Kavita On Life Images
New Best Hindi Kavita On Life Images

Download Image

“Hindi kavita on life” jab alag alag artist likhte hai toh unke najariye se aaye huye bade bade life lesson bhi pata chalte hai. “New hindi poem” from new writer me unke original emotion k saath bheed me chipe life k liye approach pata chalta hai. Ruthaaashiq har jazbaat ko sunkar aaptak laane sochta hai. Aap b “poem hindi mein” likhna pasand karte ho aur iss post ki poem ke saath wo mel khaati ho toh hume jarur bheje. Participant Post ke end me hum writer ki pic , name aur instagram ID mention karte hai. Iss “hindi kavita on life” ke writer ki details bhi humne featuring k end me di hai. Aap writer ka aur bhi content unke IG pe dekh sakte hai.

Hindi Kavita On Life | कविता- ख्वाबों की उड़ान (Khwaabo ki udaan)

उड़ना चाहती थी वो अपने पंखो को फैला के,
छूना चाहती थी आसमान अपने सर को उठाके।
Udna chaahti thi wo apne pankho ko faila ke,
Choona chaahti thi aasmaan apne sar ko uthaake.

सपने थे उसके भी जिन्दगी जीने के,
आखिर क्या मिला लोगों को उससे उसकी वही जिन्दगी छीन के।
Sapne the uske bhi zindagi jeene ke,
Aakhir kya mila logo ko usse uski wahi zindgi cheen ke.

मत काटो पंख उसके, उड़ने दो उसे,
उसकी ये जिन्दगी है, जीने दो उसे।
Mat kaanto pankh uske, udne do usae,
uski ye zindgi hai, jeene do usae,

तिनके के सहारे जी रहे है वो,
हर पल बस टुकडो़ में बंट रही है वो ।
Tinke ke sahaare ji rahe hai wo,
har pal bas tukdo me bant rahi hai wo.

पिंजरे में कैद, नये ख्वाबों को,
एक उम्मीद से देख रही है वो।
Pinjre me kaid , naye khwaabo ko,
ek umeed se dekh rahi hai wo.

आसमान है खाली, उसे दिल से बुला रहा,
पर उसके टूटे पंखों ने उसके होंसले को हरा दिया।
Aasmaan hai khaali, usae dil se bula raha,
par uske toote pankho ne uske hausle ko hara diya.

मायुस सी डरी हुई रहती है वो छुपके.
पंखों को रखती है अपने आंचल में समेटे।
maayus se dari hui rehti hai wo chipke,
pankho ko rakhti hai apne aanchal me samete.

जरुरत है उसे भी एक सपनों के उडा़न की,
उस आसमान में खोई उसकी उस पहचान की।
jarurat hai usae bhi ek sapno ki udaan ki,
uss aasmaan me khoi uski uss pehchaan ki.

जोड़के दोबारा अपने उन टूटे हुए पंखों को,
उड़ जाए वो चिडिया गगन में तोड़के उन जंजीरों को।
jodke dobaara apne un toote huye pankho ko,
udd jaaye wo chidiya gagan me todke unke janjiro ko.

उड़ जाए वो चिडिया उस आसमान में,
बुन दोबारा उन ख्वाबों को।
Udd jaaye wo chidiya uss aasmaan me,
bun dobara un khwaabo ko.

New Best Hindi Kavita On Life Images
New Best Hindi Kavita On Life Images

Download Image

New Hindi Poem | कविता – खुला आसमान (Poem – Khula Asmaan)

कितना हसीन है ये जहान ।
पैरों तले ज़मी, तो सिर पर है आसमान।
Kitna haseen hai yeh jahaan
Pairon tale zameen hai toh sir par ek asmaan

आंखों में नींदे काम ख्वाब ज्यादा है ।
सपने है कुछ, जिन्हे सच कर दिखाना है ।
Ankhon mein needein kam khwaab zyada hai
Sapne hai kuch haseen , jinko sach kar dikhana hai

सच्चाई दिखाती है जमीन तो सपनो का ऊपर एक खजाना है।
मेहनत है आज की हाथों में, कल का सफर अनजाना है ।
Sacchai dikhati hai zameen to sapno ka upar ek khazana hai
Mehnat hai hathon mei , kal ka safar anjaana hai

हकीकत के मुखौटे के पीछे एक उम्मीद है छुपी।
बातें है दिल में कुछ, जो रह गई अनकही।
Haqiqat ke mukhote ke piche ek ummeed hai chupi
Batein hai kuch dil mein hi , reh gayi jo unkahi

ख्वाबों का यह पिटारा आंखों में कैद है ।
रंग भरे सपनो का आसमान ये सफेद है ।
Khwaabon ka pitara ankhon mein kaid hai
Rang bhare sapno ka asmaan ye safed hai

सच कितना हसीन है ये जहान ।
पैरों तले ज़मी है ।
तो सिर पे है एक खुला आसमान ।
Sach kitna haseen yeh jahaan hai
Pairon tale sirf zameen to hisse mein ye jahaan hai , to hisse mein yeh khula asmaan hai

New Best Hindi Kavita On Life Images
New Best Hindi Kavita On Life Images

Download Image

Poem Hindi Mein | कविता – करवटें (Karvate)

सन्नाटों में क्यू बिखर रही है ज़िंदगी ।
करवटों में अब बदल रही है ज़िंदगी ।
Sannaton mei kyu bikhar rahi hai zindagi.
Karvaton mei ab badal rahi hai zindagi.

राज गहरे हर रात की कहानी है ।
थोड़े आंसू भी बस खुशी की निशानी है ।
Raaz gehre har raat ki kahani hai .
Thode ansu bhi bas khushi ki nishani hai .

चांदनी है रोशनी है ।
फिर भी क्यू ,
अंधेरों की तलाश है ।
Chandni hai , roshni hai .
phir bhi kyu andhero ki talaash hai .

तन्हाई में खामोशी से भरी रातें है ।
चिराग लिए कुछ ढूंढती आंखे है ।
Tanhai mein khamoshi se bhari raatein hai
Chirag liye door kuch dhoondti yeh ankhein hai

आवाजों में छुपी तनहा आहाटे है ।
नींद नहीं बस बदलती करवटें है ।
Awazon mein chupi tanha aahatein hai .
Neend nahi bas badalti karvaten hai .

New Best Hindi Kavita On Life Images
New Best Hindi Kavita On Life Images

Download Image

Hindi Kavita On Life | कविता – लम्हे (Lamhe)

हाथ को थामे कोई अपना कुछ वक्त तक रह तो लेता है,
पर फिर क्यूं एक दिन साथ छोड़, कहीं दूर चला जाता है।
Haath ko thame koi apna kuch waqt tak reh to leta hai,
par fir kyu ek din saath chod kahi door chala jata hai ,

रिश्तों की नाजुक डोर मजबूत अन्दर से होती है,
सींचे धूप पानी से तो जडो़ से वो बढ़ती है।
Rishton ki nazuk dor , mazboot ander se hoti hai ,
seeche dhoop pani se to jado se wo badti hai.

पर बदलते वक्त के साथ जिन्दगी भी बदलती है।
उम्र के इस पडा़व पे, फिर ये जिन्दगी भी इक दिन ढलती है।
Par badalte waqt ke saath , zindagi bhi badalti hai ,
Umar ke is padhav pe phir yeh zindagi bhi ek din dhalti hai.

संभाल सको तो संवेर लो इन लम्हों को क्यूंकि,
इक लम्हे की ही तो दूरी, फासलों ओर नजदिकियों के बीच होती है।
इक लम्हे की ही तो दूरी कभी कभी मीलों की होती है।
Sambhal sako to saver lo in lamhon ko kyuki ,
Ek lamhe ki hi toh doori, faaslo aur nazdeekiyon ke beech hoti hai ,
Ek lamhe ki hi to doori kabhi kabhi milon ki hoti hai .

New Best Hindi Kavita On Life Images
New Best Hindi Kavita On Life Images

Download Image

Ye sab “poem hindi mein” padhne ke baad aapki favorite kavita kaunsi hai? Hum writer se original “new hindi poem” collection always welcome karte hain. Aap me se koi apna original content humaare website dwara aapne naam aur pic k saath publish karvaana chaahta ho toh humare Instagram page se hume contact kar sakte hai.

Writer | Ashita Sharma Hindi Poem On Life

WhatsApp Image 2022 03 02 at 2.39.51 PM
Spread The Love

0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.