International Day For The Elimination of Violence Against Women Poems

Published by Rutha Aashiq on

violence-against-women-poem

Rutha Aashiq Media Writers Whatsapp Group me “violence against women poem” pe write up activity me aurat ke oopar kaafi submission mile. Kuch short liners hai toh kuch “short poem on violence” ke write up hai. Kuch logo ne “stop violence poems” pe likha hai toh kuch logo ne womanhood ko Cherish kiya hai. Hum me se sab logo ki ye baate hai, baato baato me kahani ko mehsoos kare.

Disclaimer

International day against women’s violence ke sensitive topic ke oopar writers ko freedom di gayi thi hinsa ko consider karke write up submission kare. Hinsa ki kisso ko leke savedansheel content is post me diye gaye hai. Kisi ek vyakti ya samaaj ke bhaag ko maan haani karne ka aashaay nahi hai. Woman ki respect aur dignity consider karke ye writer content ko, kam se kam modification ke saath present karne ki koshish ki hai.

International Day For The Elimination of Violence Against Women Poems

Is post me “poem on women in hindi” bhi bheji hai jo alag perspective hai, magar womanhood ko embrace karne ke liye ye shabd vishay ke dusre paase pe bhi view de rahi hai. Ye theme me hum chaahte the ke sensitive “stop violence poems” dilme chipi baate leke aaye. Rutha Aashiq participants se kuch expect karke naya naya karte rehta hai, lekin writers jab submission me baate karte hai aur apne words dete hai, ye rutha aashiq website aur app ko alag hi roop de dete hai.

Violence against Women poem
Poem On Women In Hindi | Violence against women poem

Violence Against Women Poem In Hindi

“Short poem on violence” hai lekin inke peeche big stories hai. Kabhi kabhi shabd poetic nahi lagte, kabhi kabhi poetic hote hai magar meaning nahi banta. Humare koshish hai, jaise bhi ho, humse ban paaye tab tak awaaz accept bhi kare aur present bhi kare.

वो पैदा करती है,
उसे ही पैदा होने नहीं देते हैं हम।।
Wo paida karti hai,
Usae hi paida hone nahi dete hain hum.

वो बसाकर रखती है,
उसे ही बिदा कर देते हैं हम।।
Wo basaakar rakhti hai,
usae hi bida kar dete hain hum.

वो अपना लेती है,
फिर भी पराया कह देते हैं हम।।
Wo apna leti hai,
Fir bhi paraaya keh dete hain hum.

उसही के हिस्से है,
फिर भी हिस्सेदारी से निकाल देते हैं हम।।
Uss hi ke hisse hai,
fir bhi hissedaari se nikaal dete hai hum.

हम में भी जज़्बात स्त्रीत्व है,
खुद भी जज़्बाती होने से गबराते हैं हम।।
Hum me bhi jazbaat streetva hai,
khud bhi jazbaati hone se gabraate hain hum.

उसके लिए जज़्बात भूले थे,
अब खुदके जज़्बात रखने के लायक भी न रहे हम।।
uske liye jazbaat bhule the,
ab khudke jazbaat rakhne ke laayak bhi na rahe hum.

Writer:- RuthaAashiq

Violence against Women poem
Violence against women poem

Download Image

कविता: कि शक्ति है वह जो नारी में मुस्कुराए !

उतार- चढ़ाव की पटरी जैसी,
चलती है नारी की कहानी।
कन्या से लेकर औरत की,
सुलझी-अनसुलझी पहेली उसकी ज़ुबानी।
Utaar- chadhaav ki patri jaisi,
chalti hai naari ki kahaani.
kanya se lekar aurat ki,
suljhi-ansuljhi paheli uski zubaani.

बातें बहुत-सी दिल में दबाए,
आगे बढ़ जाती है बिन कुछ बताए,
संजोकर फिर रखती हैं उनको अपनी डायरी के पन्नों में
अक्षरों और आँसुओं से ख़ुद को सुलझाए,
कि शक्ति है वह जो नारी में मुस्कुराए !
Baate bahut- si dil me dabaaye,
aage badh jaati hai bin kuch bataaye,
sanjokar fir rakhti hain unko apni dairy ke panno me,
Aksharo aur aansuo se khud ko suljhaaye,
ki shakti hai vah jo naari me muskuraaye!

हारती नहीं बस थक जाती है,
टूटती नहीं बस सिमट जाती है!
छोड़ती नहीं बस संभल जाती है,
रोती है ज़रूर मुस्कुराती आँखों से अपनी डायरी के पन्नों में
अक्षरों और आँसुओं से ख़ुद को सुलझाए।
कि शक्ति है वह जो नारी में मुस्कुराए !
Haarti nahi bas thak jaati hai,
tootti nahi bas simat jaati hai!
chodti nahi bas sambhal jaati hai,
roti hai jarur muskuraati aankho se apni dairy ke panno me,
aksharo aur aansuo se khud ko suljhaaye.
ki shakti hai vah jo naari me muskuraaye!

अजब विडम्बना है इसकी,
प्यार का संमदर भी है ,
तो ईर्ष्या की दासी भी।
ज्ञान की मूरत भी,
अपने उसूलों की ढीठ भी।
ऐसा नहीं कि वह जानती नहीं,
टूटती नहीं बस सिमट जाती है,
छोड़ती नहीं बस संभल जाती है।
Ajab vidamba hai iski,
pyaar ka samandar bhi hai,
toh irshya ki daasi bhi.
gyaan ki murat bhi,
apne usoolo ki dheet bhi.
aisa nahi ki vah jaanti nahi,
tootti nahi bas simat jaati hai,
chodti nahi bas sambhal jaati hai.

अपने बागीचे में मग्न हो जाए,
दूसरों की खुशियों में शामिल हो जाए।
विभिन्न रूपों का मिश्रण होती हैं ये,
कुछ जोड़ती हैं अपने घोंसले को,
और कुछ बिखेर के रखतीं उन तिनकों को।
Apne baagiche me magan ho jaaye,
dusro ki khushiyo me shaamil ho jaaye.
Vibhinn roopo ka mishran hoti hai ye,
kuch jodti hai apne ghonsle ko,
aur kuch bikher ke rakhti unn tinko ko.

स्वावलंबी होती हैं अपने विचारों में,
घबराती नहीं ये हल्की आँधियों में।
सिमट जाती हैं पर डटी रहती हैं ये,
हारती नहीं बस थक जाती है।
Swaawlambi hoti hain apne vichaaro me,
gabraati nahi ye halki aandhiyo me.
simat jaati hai par dati rehti hai ye,
haarti nahi bas thak jaati hai.

रोती है ज़रूर मुस्कुराती आँखों से अपनी डायरी के पन्नों में
अक्षरों और आँसुओं से ख़ुद को सुलझाए,
कि शक्ति है वह जो नारी में मुस्कुराए !
Roti hai jarur muskuraati aankho se apni dairy ke panno me,
Aksharo aur aansuo se khud ko suljhaaye,
ki shakti hai vah jo naari me muskuraaye!

Writer:- Garima Sudan

Violence against Women poem
Poem On Women In Hindi

Download Image

नवयुग के हम राही,
खबरों में आज भी तमाशा है।
Navyug me hum raahi,
khabro me aaj bhi tamasha hai.

औरत की इज्जत पे,
आज भी कुरुर हाथों का कब्ज़ा है।
aurat ki ijjat pe,
aaj bhi kuroor haatho ka kabza hai.

इंसानियत का बना ये दर्द,
या ये दर्द इंसानियत पे है।
insaniyat ka bana ye dard,
ya ye dard insaniyat pe hai.

युग युग में बदले किरदार,
ये कहानी का एक सार है।
yug yug me badle kirdaar,
ye kahaani ka ek saar hai.

सीख की कमी रह गयी या,
जग में नारी हर बार हार है।
seekh ki kami reh gayi ya,
jag me naari har baar haar hai.

लूटकर उसे कंगाल हम सबका दामन है,
तस्वीरें उसकी और बेईज्जत संसार है।
lootkaar usae kangaal hum sabka daaman hai,
tasveere uski aur beijjat sansaar hai.

क़ानून और किरदारों की बातें हज़ार,
छोटे मोटे पैमाने में हर घर में हिंसा का बाजार है।
kanun aur kirdaaro ki baate hazaar,
chote mote paimaane me ghar me hinsa ka baazaar hai.

ये इंसानों में रोती है औरत,
या इंसानियत को रोती ये कोशिश बेकार है।
ye insaano me roti hai aurat,
ya insaniyat ko roti ye koshish bekaar hai.

ये औरत तरस रही है सन्मान को,
या सन्मान के जज़्बात को ये पुकार है।
ye aurat taras rahi hai sanmaan ko,
ya sanmaan ke jazbaat ko ye pukaar hai.

देश देश और जहाँ भूल चुके हैं हम,
या कभी समझ ही न पाये, इंसानियत के प्रकार को।
desh desh aur jahaan bhul chuke hai hum,
ya kabhi samajh hi na paaye, insaniyat k prakaar ko.

Writer:- RuthaAashiq

Violence against Women poem
Violence against women poem

Download Image

औरत इंसानियत आज फिर शर्मसार हुई

औरत इंसानियत आज फिर शर्मसार हुई,
तेरे गले से फिर से सूखी रोटी उतार दी गयी,
Aurat insaaniyat aaj fir sharmsaar hui,
tere gale se fir se sukhi roti utaar di gayi.

जाने क्या करेंगे और अब ये लोभी दहेज के,
किंतनी देगे यातना तुझे और अभी भी,
Jaane kya karenge aur ab ye lobhi dahej ke,
kitni denge yaatna tujhe aur abhi bhi,

भरता नही पेट इनका इतने से भी,
तो देते है मार तुझे किसी न किसी तरह जी,
Bharta nahi pet inka se bhi,
toh dete hai maar tujhe kisi n kisi tarah ji,

जाने कैसे झेलती है तू ये दर्द युही,
कुछ न कह के सहती क्यों रहती है युही,
दुल तेरा क्या है पत्थर का बन गया युही,,
Jaane kaise jhelti hai tu ye dard yunhi,
kuch na keh ke sehti kyon rehti hai yunhi,
dul tera kya hai pathar ka ban gaya yunhi.

देखी आज समाचार में जो कहानी आयी तेरी,
किस तरह पति ने दहेज के लिए,
तुझे खिलाई सुखी रोटी पिछले पंद्रह दिन से जी,
Dekhi aaj samachar me jo kahaani aayi teri,
kiss tarah pati ne dahej ke liye,
tujhe khilaai sukhi roti pichle pandrah din se ji,

दूर तुझको कर दिया तेरे ही बच्चो से जी,
कहता है वो बच्चो को जो म मार गयी तुम्हारी,
खिंचता है रट हुए वीडियो बच्चो की,
भेजता है तुझे की तू करे दहेज ही मांग पूरी उसकी,
Door tujhko kar diya tere hi bacho se ji,
kehta hai wo baccho ko jo mai maar gayi tumhaari,
khinchta hai rat huye video baccho ki,
bhejta hai tujhe ki tu kare dahej hi maang poori uski,

इंसानियत खो गयी रोने लगी है ज़िन्दगी,
तुझको बचने अब कहा से लाये सुखी
कृष्ण जी, ये बता दे मुझे क्या करू मैं तेरे लिए ही,
Insaniyat kho gayi rone lagi hai zindagi,
tujhko bachne ab kahaa se laaye sukhi,
Krishna ji, ye bata de mujhe kya karu mai tere liye hi,

इंसानियत शर्मसार हुई फिर आज एक औरत के सँग हुआ जो जी,
बन्द कर के था रखा तालों में तुझे उसने जी,
मिल न सके ,कर न सके बात अपनो से ही,
छीन लिया इसलिए तेरे हाथ से था मोबाइल जी,
कहा कि है इंसानियत, इंसानियत आज मार ही गयी,
insaniyat sharmsaar hui fir aaj ek aurat ke sang hua jo ji,
band kar ke tha rakha taalo me tujhe usne ji,
mil n sake, kar na sake baat apno se hi,
cheen liya isliye tere haath se tha mobile ji,
kaha ki hai insaniyat, insaniyat aaj maar hi gayi,

औरत होने की सज़ा क्यों तुझे यू, मिल रही,
दिल क्यों नही पिघलता ऐसे दरिंदो का जी,
सोचता है सुखी तो दुख होता है इन्हें हाल पे जी,
इंसानियत शर्मशार आज फिर से हो गयी।
aurat hone ki saja kyon tujhe yu, mil rahi,
dil kyon nahi pighalta aise darinde ka ji,
sochta hai sukhi toh dukh hota hai inhe haal pe ji,
insaniyat sharmsaar aaj fir se ho gayi.

Writer:- Sukhminder Singh Khalsa

Violence against Women poem
Poem On Women In Hindi

Download Image

खैरियत कोई न ही पूछे वो सही लगता है,
न जाने क्या किम्मत माँग ले ..
Khairiyat koi na hi pooche wo sahi lagta hai,
na jaane kya kimmat maang le…

Writer:- RuthaAashiq

Violence against Women poem
Violence against women poem

Download Image

कबतक सहेगी दर्द दहेज का

बहुत पुराने से चली आ रही है ये रीत दहेज की,
इसकी बेदी छड़ गयी न जाने कितनी औरत जी,
Bahut poorane se chali aa rahi hai ye reet dahej ki,
iski bedi chad gayi n jaane kitni aurat ji,

पालता है जिन्हें जी जान से जी,
करता है देख शादि फिर उनकी जी,
Paalta hai jinhe ji jaan se ji,
karta hai dekh shaadi fir unki ji,

फिर उन्हि को मिलती है प्रताड़ना जी,
लेके आये साथ चाहे जितना कम ही लगता है जी,
सुना सुना के मारते है उसे सारी उम्र जी,
केसी है ये विडब्मना क्यों होता है ऐसे जी,
Fir unhi ko milti hai pratadna ji,
leke aaye saath chaahe jitna kam hi lagta hai ji,
suna suna ke maarte hai usae saari umar ji,
kaisi hai ye vidambna kyo hota hai aise ji,

थी तू नन्ही सी प्यारी से परी सी,
खेलने को जो गयी घर के बाहर जी,
Thi tu nanhi si pyaari se pari si,
khelne ko jo gayi ghar ke bahar ji,

खेल गया कोई अज़मत से तेरी कोई,
नज़रे बुरी कर गया तुझ पे आज कोई,
देख के अकेला तुझे दबोच गया कोई,
khel gaya koi ajmat se teri koi,
najre buri kar gaya tujh pe aaj koi,
dekh ke akele tujhe daboch gaya koi,

खेलता वो रहा तुझसे जैसे किया उसका जी,
उतार के तार तार कर के रख दी इज़्ज़त तेरी जी,
मलाल नही जरा सा हुआ, किया जो संग तेरे उसने जी,
khelta vo raha tujhse jaise kiya uska ji,
utaar ke taar taar kar ke rakh di ijjat teri ji,
malaal nahi jara sa hua, kiya jo sang tere usne ji,

खो गयी है इंसानियत, खो गयी है इज़्ज़त तेरी,
सुन के कहानी तेरी को रो पड़ी धरती,
क्यों आज मुझ पे हुआ ऐसा किर्तीय जी,
Kho gayi hai insaniyat, kho gayi hai ijjat teri,
sun ke kahaani teri ko ro padi dharti,
kyon aaj mujh pe hua aisa kirtiye ji,

सुनके दिल दहल जाता है, उतार के इज़्ज़त तेरी,
मार दिया तुझे गोद के चाकू छपन बार जी,
डाला तेज़ाब तेरे नाज़ुक अंगों पे जी,
Sunke dil dehal jaata hai, utaar ke ijjat teri,
maar diya tujhe god ke chaaku chappan baar ji,
daala tezaab tere naajuk ango pe ji,

क्या और क्यों बहसि हुआ वो इंसान था या शैतान कोई,
सोचके कप जाती है अंदर तक रूह मेरी।
kya aur kyo behsi hua wo insaan tha ya shaitaan koi,
sochke kap jaati hai andar tak rooh meri.

Writer:- Sukhminder Singh Khalsa

Violence against Women poem
Poem On Women In Hindi

Download Image

लफ्ज़ के लिबाज़ मैं ओढ़ लेता हूँ सही से,
ये जज़्बातों का हिस्सा – खुदसे ,
रूबरू करवाने का भी साहस कहाँ अब..
Lafz ke libaaz me odh leta hoo sahi se,
ye jazbaato ka hissa – khudse,
rubroo karvaane ka bhi saahas kahaan ab…

Writer:- RuthaAashiq

Violence against Women poem
Violence against women poem

Download Image

पिता की हवस

सुनके खड़े हो गए ये खबर,
कैसा वो बाप होगा,
जहा मना रहे लोजी नवरात्र,
वो बेटी को अपना शिकार बना रहा होगा,
Sunke khade ho gaye ye khabar,
kaisa wo baap hoga,
jahaan manaa rahe loji navraatra,
vo beti ko apna shikaar bana raha hoga,

कर रहे है जहाँ सभी देवी पूजन,
वो देवी को ही रौंद रहा होगा,
कैसे हिम्मत जुटाई होगी इतना बुरा जो वो कर गया होगा,
क्यों किया उसने इसका जवाब भी उसे देना होगा,
Kar rahe hai jahaan sabhi devi poojan,
vo devi ko hi raundh raha hoga,
kaise himmat jutaai hogi itna bura jo wo kar gaya hoga,
kyon kiya usne iska jawaab bhi usae dena hoga,

ऐसे वहसी दरिंदो को उम्रकैद जय फाँसी की सज़ा भी देना कम होगा,
सोचना होगा हमे क्यों हो रहा है ये,
क्या होते जा रहा है इस संसार को सुखी,
देख के इसी को तुझे लिखनाहोगा,
Aise vahsi darinde ko umarkaid jay faansi ki sajaa bhi dena kam hoga,
sochna hoga hume kyo ho rha hai ye,
kya hote ja rahe hai iss sansaar ko sukhi,
dekh ke issi ko tujhe likhna hoga,

है तू लिखारी तो आंखे खुल जाए सभी की ऐसा कुछ लिखना होगा।।।
उस पिता की क्या कहूँ जिसने ऐसा किया होगा,
खुद तू खुद दोस्तो को भी बेटी को जिसने परोसा होगा,
hai tu likhaari toh aankhe khul jaaye sabhi ki aisa kuch likhna hoga.
uss pita ki kya kahu jisne aisa kiya hoga,
khud tu khud dosto ko bhi beti ko jisne parosa hoga,

आज सलाखों पीछे पहुच के भी,
जिसे रति भर भी पछतावा न होगा,
ऐसे को क्या सज़ा दे जो खुद को मार गया होगा,
Aaj salaakho peeche pahuch ke bhi,
jise rati bhar bhi pachtaava n hoga,
aise ko kya saja de jo khud ko maar gaya hoga,

झेलते हुए उस बेटी की सोचो ये सब जता हाल हुआ होगा,
क्या मनन इस्थि उसकी अब बन गया होगा।।।।।
Jhelte hue uss beti ko socho ye sab jata haal hua hoga,
kya manan isthi uski ab ban gaya hoga.

Writer:- Sukhminder Singh Khalsa

Violence against Women poem
Poem On Women In Hindi

Download Image

सोचता हूँ किसी एक वजह को कोस लू,
मगर ये छूटती किस्मत – हरबार नये बहाने से आई..
Sochta hoon kisi ek wajah ko kos lu,
magar ye chootti kismat – harbaar naye bahaane se aayi…

Writer:- RuthaAashiq

Violence against Women poem
Violence against women poem

Download Image

मजबूर हो के ही

कोई औरत खुद से चाहती नही जाना उन गलियो में,
जहा भेजा जाता है कभी कभी ज़ोर ज़बरदस्ती से,
koi aurat khud se chaahti nahi jaana unn galiyo me,
jahaan bheja jaata kabhi kabhi jor jabardasti se,

जिस जगह को कहते है बदनाम गली,
कोई कहता है धंदेवाली गली,
jis jagah ko kehte hai badnaam gali,
koi kehta hai dhandewali gali,

माहौल बड़ा अजीब सा होता है,
हर औरत जो यह है दिखती की होती है कोई न कोई मजबूरी,
जो करने को ये काम वो है यह रहती,
mahol bada ajeeb sa hota hai,
har aurat jo yeh hai dikhti ki hoti hai koi na koi majboori,
jo karne ko ye kaam wo hai ye rehti,

बेतहाशा दर्द घुटन सिसकियां लेती है,
पर जीती है रोज़ खुद को मार के ही,
कोई नही पूछता उससे क्या है मजबूरी उसकी,
betahaasha dard gutan siskiyaa leti hai,
par jiti hai roj khud ko hi,
koi nahi poochta usse kya hai majboori uski,

आता जो भी है वो बस जाता दे के पैसे,
खेलता कुछ पल साथ उसके ही,
फिर छोड़ जाता है उसे उसके हाल पे ही,
Aata jo bhi hai wo bas jaata de ke paise,
khelta kuch pal saath uske hi,
fir chod jaata hai usae uske haal pe hi,

सच बड़ी बदनुमा है,
वो मजबूरियां जो ले आती है,
इन औरतो को इन गलियो में,
जिन्हें कहते है बदनाम गली,
sach badi badnuma hai,
wo majbooriya jo le aati hai,
inn aurato ko inn galiyo me,
jinhe kehte hai badnaam gali,

खुद से वो शब्द बोलने में भी,
पहले झिझक होती है,
बाद में मान खुद की किस्मत ढाल लेती है,
वो खुद को इन गलियो के हिसाब से ही.
khud se wo shabd bolne me bhi,
pehle jijak hoti hai,
baad me maan khud ki kismat dhaal leti hai,
wo khud ko inn galiyo ke hisaab se hi.

पर सच पे सोचने पे मजबूर हो जाता हूं,
दिन में न जाने किंतनी बार,
ये इज़्ज़त को उतारती है,
ना जाने क्या है मजबूरी इसकी,
Par sach pe sochne pe majboor ho jaata hoon,
din me na jaane kitni baar,
ye ijjat ko utaarti hai,
na jaane kya hai majboori iski,

कोई तो आगे आ कर अब रोक दो ये गंदगी,
जिसमे रहने को मजबूर है ये ,
न जाने कैसी है इनकी मजबूरी।।।
Koi toh aage aakar ab rok do ye gandgi,
jisme rehne ko majboor hai ye,
n jaane kaisi hai inki majboori.

छोटे से कमरों में रह के जीवन व्यापन करती है,
जन्म जो देती है किसी को तो दुनिया उसे हरामी कहती है,
जानती है नाम पिता का तब भी बता वो पाती नही,
जाने क्या है इसकी मजबूरी,
chote se kamro me rehke jeevan vyapan karti hai,
janam jp deti hai kisi ko toh duniya use haraami kehti hai,
jaanti hai naam pita ka tab bhi bata wo paati nahi
Jaane kya hai iski majboori,

सोचो ज़रा इस बारे में,
जहा जाने से डरते बचते है हम वहां पूरी ज़िंदगी है यह गुज़ार देती,
जाने क्या क्यों है मजबूर इतनी जो यह रह के करती है ये काम जी।।।।
Socho jaraa iss baare me,
jahaan jaane se darte bachte hai hum vahaan poori zindgi hai yeh guzaar deti,
jaane kya kyon hai majboor itni jo yeh reh ke karti hai ye kaam ji.

Writer:- Sukhminder Singh Khalsa

Violence against Women poem
Poem On Women In Hindi

Download Image

“Violence against women poem” ki activity k time jitni kahaani sunne mili itni shayad hi kabhi mili ho. “Stop violence poems” deep feelings hai, Kabhi kabhi modern time ye melodramatic mehsoos hoti hai. Magar “violence against women poem” ke saath inki sachai pe gaur karne inke statistics aur news bhi jarur dekhe. Aap writer raho na raho, sachai ki aag jab gaur karoge toh aap bhi kuch na kuch mehsoos karoge aur “poem on women in hindi” collection me aap ka ek jazbaat jarur judega.

Must Read:- Respect Women Quotes In Hindi

भीड़ से परे हैं,
अपने आप में इनकी बिरादरी,
गलत दिखकर भी चलती,
दकियानुसी की आबादी,
हाँ, सफेद झूठ सा लगता है,
पर है ये काला सच्च,
अपने ही छाँव में पनपकर भी,
महफूज़ नहीं अपनी ही कहानी ।
Bheed se pare hai,
apne aap me inki biradari,
galat dikhkar bhi chalti,
dakiyanusi ki aabaadi,
haan,safed jhooth sa lagta hai,
par hai ye kaala sach,
apne hi chaanv me panapkar bhi,
mehfooz nahi apni hi kahaani.

Writer:- RuthaAashiq

Violence against Women poem
Violence against women poem

Download Image

तुम भी तो बदनाम गालियों से बदनाम होके आए है,
फिर भी क्यों सान से सर उठाए हों ।
Tum bh toh badnaam galiyo se badnaam hoke aaye hai,
fir bhi kyon shaan se sar uthaaye ho,

अच्छा अच्छा तुम लड़के हो हैना इसलिए तो कांडा कर आए हों,
चलो कोई नहीं जाओ ये बदनाम गालियों की बदनामी तो तुम हम पे फेंक आए हों।
Acha acha tum ladke ho hai na, isliye toh kaanda kar aaye ho,
chalo koi nahi jaao ye badnaam galiyo ki badnaami toh tum pe fenk aaye ho,

हम लड़कियों के हिस्से की आजादी तुम तो सदियों से छीनते आए हो,
पर कोई नहीं तुम तो लड़के हो जाओ जाओ भले ही तुम उन बदनाम गलियों से आए हो।
Hum ladkiyo ke hisse ki aazaadi tum toh sadiyo se cheente aaye ho,
par koi nahi tum toh ladke ho jaao jaao bhale ho tum unn badnaam galiyo se aaye ho.

रात हुई हमारी काली हम तुम जैसे रात कहा जी पाते हैं,
तुम तो खेल के हमसे चल जाते हो हम कहा कुछ कर पाते है।
Raat hui humaari kaali hum tum jaise raat kahaan ji paate hai,
tum toh khel ke humse chal jaate ho hum kaha kuch kar paate hai.

रात के उस चांद को हम तो दाग नजर आते हैं,
तुम भी तो बदनाम गालियों से बदनाम होके आए है।
Raat ke uss chaand ko hum toh daag najar aate hai,
tum bhi toh badnaam galiyon se badnaam hoke aaye hai.

फिर भी क्यों सान से सर उठाए हों ,
अच्छा अच्छा तुम लड़के हो हैना इसलिए तो कांडा कर आए हों।
Fir bhi kyo shaan se sar uthaaye ho,
acha acha tum ladke ho hai na isliye toh kaanda kar aaye ho.

चलो कोई नहीं जाओ ये बदनाम गालियों की बदनामी तो तुम हम पे फेंक आए हों,
हम लड़कियों के हिस्से ही आजादी तुम तो सदियों से छीनते आए हो।
Chalo koi nahi jaao ye badnaam galiyo ki badnaami toh tum pe fenk aaye ho,
hum ladkiyo ke hisse hi aazaadi tum toh sadiyo se cheente aaye ho.

तुम भी तो बदनाम गालियों से बदनाम होके आए है,
याद रखना हमारी नज़रों से तुम गिर के बदनाम होके आए हो।
tum bhi badnaam galiyo se badnaam hoke aaye hai,
yaad rakhna humaari najro se tum gir je badnaam hoke aaye ho.

हम भले ही हो बदनाम गलियों से और तुम तो हमारे ही नजरो से बदनाम होके आए हो,
तुम भी तो बदनाम गालियों से बदनाम होके आए है…..,!!
Hum bhale hi ho badnaam galiyo se aur tum humaare hi najro se badnaam hoke aaye ho,
tum bhi toh badnaam galiyo se badnaam hoke aaye ho.!!

Writer:- Ankita Dwivedi

Violence against Women poem
Poem On Women In Hindi

Download Image

ये हालातों को कोस ले,
या खुदकी कमी हैं,
Ye haalaato ko kos le,
ya khudki kami hai,

बिखरकर फिर टूटने चली आती है,
औरत की हर बार की कहानी है।
bikharkar fir tootne chali aati hai,
aurat ki harbaar ki kahaani hai.

मजबूर सही, और मजबूर बनने से रोक लो,
दबाती है दुनिया, कभी कभी दबने से भी बचा लो।
majboor sahi, aur majboor banne se rok lo,
dabaati hai duniya, kabhi kabhi dabne se bhi bacha lo.

आओ रोते हुए इतिहास में,
एक उठता किस्सा बन ले।
Aao rote hua itihaas me,
ek uthta kissa ban le.

झुकी है हर गली में नारी तो,
हर गली में उसका नारा भी है।
jhuki hai har gali me naari toh,
har gali me uska naara bhi hai.

चाहता होगा हर कोई बेटा मगर,
बेटी के बिना भी कोई कोना सूना है।
chaahta hoga har koi beta magar,
beti ke bina bhi koi kona suna hai.

हिंसा के किस्से समाचार है तो,
कहानियों की मैगज़ीन बिकी बेशुमार है।
hinsa ke kisse samachaar hai toh,
kahaaniyo ko magazine biki beshumaar hai.

दाग लगे है बहुत इस बातों को,
मगर सुधार के लिए जल रही कई मशाल है।
daag lage hai bahut iss baato ko,
magar sudhaar ke liye jal rahi kai mashaal hai.

एक और दिन और मौका है साथ देने को,
एक विरोध एक आवाज बने महिला पे हो रहे हिंसा को।
Ek aur din aur mauka hai saath dene ko,
ek virodh ek awaaz bane mahila pe ho rahe hinsa ko.

Writer:- RuthaAashiq

Violence against Women poem
Violence against women poem

Download Image

किरदार मेरा साफ है यूं दाग ना लगा,
हाथो को देखा है हर रोज मैने अपने तू अपना देख फिर बता,
कातिल तू इस कदर कातिल हैं,
दिल निकाल डाला ,जान निकाल डाला ,
Kirdaar mera saaf hai yu daag na laga,
haatho ko dekha hai har roj maine apne tu apna dekh fir bata,
kaatil tu iss kadar kaatil hai,
dil nikaal daala, jaan nikaal daala,

हर चीख का पैगाम निकाल डाला,
जरा देख खुद को फिर बता सीरत तो तू अपनी जाने ही दे सूरत ही देख के अपनी तू खुद की सच्चाई छुपा।
किरदार मेरा साफ है यूं दाग ना लगा,
हाथो को देखा है हर रोज मैने अपने तू अपना देख फिर बता,
Har cheekh ka paigaam nikaal daala,
jaraa dekh khud ko fir bataa sirat toh tu apni jaane hi de surat hi dekh ke apni tu khud ki sachai chupa,
kirdaar mera saaf hai yu daag na laga,
haatho ko dekha hai har roj maine apne tu apna dekh fir bata.

Writer:- Ankita Dwivedi

Violence against Women poem
Poem On Women In Hindi

Download Image

जहां इश्क मुकम्मल ना हो हम वहा जाया नहीं करते,
हम आपकी तरह सबको अजमाया नहीं करते।
Jahaan ishq mukammal na ho hum waha jaaya nahi karte,
hum aapki tarah asabko ajmaaya nahi karte.

आसमान से टूट के जो गिर चुका वो तारा है हम,
पर फिर भी हम आसमान में रह कर आए है ये गुरुर दिखाया नहीं करते।
Aasmaan se toot ke jo gir chuka wo taara hai hum,
par fir bhi hum aasmaan me rehkar aaye hai ye guroor dikhaaya nahi karte.

किसी के लिए तोड़ा था हमने खुद को,
और टूट के गिरते वक्त भी किसी की मांगी दुआएं को हम नकारा नहीं करते।
Kisi ke liye toda tha humne khudko,
aur toot ke girte waqt bhi kisi ki maangi duaye ko hum nakaara nahi karte.

द्विवेदी जी है हम किसी के बल पे अपना गुजारा नहीं करते,
जिंदगी में कभी भी हम लोमड़ी से गद्दार दोस्त पाला नहीं करते।
Dwivedi ji hai hum kisi ke bal pe apna gujara nahi karte,
Zindgi me kabhi bhi hum lomdi se gadaar dost paala nahi karte.

समझते है सभी की नियत को हम पर उन्हें उनके सामने से गिराया नहीं करते,
हां जी…बिल्कुल,द्विवेदी जी है हम,
जिनके उसूल नही ऐसे दुश्मन भी पाला नहीं करते।
Samajhte hai sabhi ki niyat ko hum par unhe unke saamne se giraaya nahi karte,
Haan ji… bilkul, dwivedi ji hai hum,
Jinke usool nahi aise dushman bhi paala nahi karte.

हम दुश्मनी को भी शिद्दत से करते है वर्ना दुश्मनी भी किया नहीं करते,
डर तो बहुत है हमारे अंदर पर हम तुम जैसे डहारने वाले शेर से डरा नहीं करते।
Hum dushmani ko bhi shiddat se karte hai varna dushmani bhi kiya nahi karte,
Dar toh bahut hai humaare andar par hum tum jaise dhaadne wale sher daraa nahi karte.

शेरनी है हम एक मौका के बाद दूसरा मौका दिया नहीं करते,
सिद्दत से करते है दुश्मनी भी और दोस्ती भीउसूल वालो से ।
Sherni hai hum ek mauka ke baad dusra mauka diya nahi karte,
shiddat se karte hai dushmani bhi aur dosti bhi usool waalo se,

हम तुम जैसे लोमड़ी से दोस्त पाला नहीं करते,
जहां इश्क मुकम्मल ना हो हम वहा जाया नहीं करते,
हम आपकी तरह सबको अजमाया नहीं करते।
Hum tum jaise lomdi se dost paala nahi karte,
Jahaan ishq mukammal na ho hum wahaan jaaya nahi karte,
hum aapki tarah sabko ajmaaya nahi karte.

Writer:- Ankita Dwivedi

Violence against Women poem
Violence against women poem

Download Image

फिर वही दस्तक

ज़ख़्म अभी भरा नहीं,
रंग दिखता हरा नहीं।
बोटी-बोटी नोचता रहा,
जिस्म हुआ, अधमरा नहीं।
Zakham abhi bhara nahi,
Rang dikhta hara nahi,
Boti- boti nochta raha,
Jism hua, adhmara nahi.

ये चीख़, पुकार, ये कैसा है शोर,
झूठा है ज़माना, कहता नया दौर ।
कल जो हालत थी आज भी है वही,
वो कोई और था या ये कोई और।
Ye cheekh, pukaar, ye kaisa hai shor,
jhootha hai zamaana, kehta naya daur.
Kal jo haalat thi aaj bhi hai wahi,
wo koi aur tha ya ye koi aur.

सिमट कर ख़ुद को ख़ुद में समाई,
दाग़ चुनर ही नहीं, रूह में लग आयी,
पागल लड़की चुप रह, शोर न करना,
इतना सुनकर, वो पागल बुत बन आयी।
Simatkar khud ko khud me samaai,
daag chunar hi nahi, rooh me lag aayi,
Paagal ladki chup reh, shor na karna,
itna sunkar, wo paagal boot ban aayi.

आँखों में लहू, दिल में चिंगारी,
ये समाज के सोंच की महामारी,
मिटा सकते हो, तो मिटा दो इसे,
कभी न मिटने वाली ये बीमारी।
Aankho me lahu, dil me chingaari,
ye samaaj ke soch ki mahamaari,
mita sakte ho, toh mita do isae,
kabhi n mitne wali ye bimari.

दिल में ख़ौफ़, आँखों में कसक,
गुनहगार को मिलती नहीं सबक़,
सिहरने लगा है अब रोम-रोम,
फिर वही दस्तक, फिर वही दस्तक।
फिर वही दस्तक, फिर वही दस्तक।
बुत- मिट्टी की मूरत।
Di me khauf, aankho me kasak,
Gunahgaar ko milti nahi sabak,
sirhaane lagaa hai ab rom-rom,
fir wahi dastak, fir wahi dastak.
fir wahi dastak, fir wahi dastak.
Boot- mitti ki moorat.

Writer:- Nilofar Farooqui Tauseef

Violence against Women poem
Poem On Women In Hindi

Download Image

डर लगता है कभी कभी जिंदगी तेरे फैसलों से,
कहीं ये मुझको मुझसे दूर ना कर दे।
Dar lagta hai kabhi kabhi zindgi tere faislo se,
kahi ye mujhko mujhse door na kar de.

डर लगता है कभी कभी कहीं ये,
फैसले कुछ गलत करने पर मजबूर ना कर दें।
Dar lagta hai kabhi kabhi kahi ye,
faisle kuch galat karne par majboor na kar de.

डर लगता है मुझको कहीं कोई अपना रूठ ना जाए,
सपने जो आखों में है टूट ना जाए।
Dar lagta hai mujhko kahi koi apna ruth na jaaye,
sapne jo ankho me hai toot na jaaye.

डर है मुझको कहीं में किसी को खो ना दूँ।
अब तक किसी ने रोती हुई नहीं देखी थी पर अब कहीं रो ना दूँ।
Dar hai mujhko kahi mai kisi ko kho na du,
abtak kisi ne roti hui nahi dekhi thi par ab kahi ro na doo.

अंदर से टूट चुकी हूँ अब मैं जिंदगी,
तेरे फैसलों से रूठ चुकी हूँ मैं जिंदगी।
Andar se toot chuki hoon ab mai zindagi,
tere faislo se ruth chuki hoon mai zindagi.

बस अब इन फैसलों को स्वीकार करने का सहारा दें ए खुदा,
ये खुशी थक गईं है रास्ते ढूंढती ढूंढती अब इसको किनारा दे एे खुदा।
Bas ab inn faislo ko swikaar karne ka sahaara de ae khuda,
ye khushi thak gayi hai raaste dhoondti ab isko kinaara de ae khuda.

Writer:- happykhushi

Violence against Women poem
Violence against women poem

Download Image

बचपन से पिलाई जो घुट्टी,
वजूद है तुम्हारा परिवार के,
मान से ,मर्यादा से औरशान से।
लहू बन दौड़ता रहा, तपता,
रहा वजूद, त्याग, तपस्या और
अन्त मे अग्निपरीक्षा की आँच से ।।
bachpan se pilaayi jo gutti,
wajood hai tumhara parivaar ke,
maan se, maryaada se aur shaan se.
lahu ban daudta raha, tapta,
raha wajood, tyaag, tapasya aur
ant me agnipariksha ki aanch se.

छल से अपने नितान्त अनजान,
पतिव्रता, निर्दोष अहिल्या भी बन
गई पाषाण होकर पति से शापित।
राक्षसी हिडिम्बा हो गई देवी पर
प्रश्न उसके एकाकी अस्तित्वहीन
जीवन का तो रहा ही अनुत्तरित ।।
Chal se apne nitaant anjaan,
pativrata, nirdosh ahilya bhi ban,
Gayi paashan hokar pati se shaapit.
raakshasi hidamba ho gyi devi par
prashna uske ekaaki astitvahinn
jeevan ka toh raha hi anutarit.

शकुन्तला,ऊर्मिला से यशोधरा
तक युगों युगों से जमी काई को ,
नहीं आसान हटाना मिटाना जानो।
फहराकर स्वयं अपनी यश पताका ,
भुनाकर मेरी कमजोरी ,कहते हो,
अब अपने आप को पहचानो।।
अब अपने आप को पहचानो ………
Shakuntala, urmila se yashodhara,
tak yugo yugo se jami kaai ko,
nahi aasaan hataana mitaana jaano.
fahraakar swyam apni yash pataaka,
bhunaakar meri kamjori, kehte ho,
ab apne aap ko pehchaano,
ab apne aap ko pehchaano..

Writer:- प्रीति लता श्रीवास्तव

Violence against Women poem
Poem On Women In Hindi

Download Image

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस,
बेटियां देश का होती अभिमान है।
Antar rashtriya baalika divas,
betiyaa desh ka hoti abhimaan hai.

पर नही समझा कभी समाज है,
जो करता बेटियों का तिरस्कार है।
par nahi samjha kabhi samaaj hai,
jo karta betiyo ka tiraskaar hai.

उसके जीवन को धिक्कार है,
मां बहन बेटिया तो वरदान है।
uske jeevan ko dhikaar hai,
maa behen betiya toh vardaan hai.

घर की रौनक और दिलो की जान है,
जो समझता बेटियों को बोझ है।
ghat ki raunak aur dilo ki jaan hai,
jo samajhta betiyo ko bojh hai.

वो क्या समझे बेटी,
कितनी अनमोल है।
wo kya samjhe beti,
kitni anmol hai.

नहीं होती हर किसी की किस्मत अच्छी,
जिसके घर होती बेटियां।
nahi hoti har kisi ki kismat achi,
jiske ghar hoti betiyaan.

वहीं निवास करती लक्ष्मी दुर्गा और सरस्वती,
बिन बेटी के घर है सूना, और सूना सारा संसार है।
wahi nivaas karti lakshmi durga aur saraswati,
bin beti ke ghar hai suna, aur suna saara sansaar hai.

बेटियां तो घर की शान है,
उनसे ही सृष्टि का सार है।
betiyaan toh ghar ki shaan hai,
unse hi srushti ka saar hai.

बिन शक्ति भी शिव है अधूरे,
तो हम तो इंसान हैं।
bin shakti bhi shiv hai adhure,
toh hum toh insaan hai.

अब भी समझ जाओ तुम,
बेटी बिना घर बर्बाद है।
ab bhi samajh jaao tum,
beti bina ghar barbaad hai.

Writer:- Pinki Khandelwal

Violence against Women poem
Violence against women poem

Download Image

एक स्त्री ने दूसरी स्त्री से कहा,
आओ सदियों पुरानी कहावत बदले,
एक दूजे की ताकत बन,
कुछ असंभव को संभव कर दे।
Ek stree ne dusri se kaha,
aao sadiyo poorani kahavat badle,
ek duje ki taakat ban,
kuch asambhav ko sambhav kar de.

हम औरतें एक दूजे की ढाल हैं,
हमसे होता सृष्टि का निर्माण,
हर स्त्री में बसती एक मां है,
हर स्त्री में होती अनन्य भक्ति,
Hum aurate ek duje ki dhaal hai,
humse hota srushti ka nirmaan,
har stree me basti ek maa hai,
har stree me hoti anya bhakti,

Violence against Women poem
Poem On Women In Hindi

Download Image

वो ममता की मूरत है,
तो आदिशक्ति का भी रूप है,
जो चाहे तो लादे भूचाल,
और चाहे तो कर दे खुद का विनाश,
Wo mamta ki murat hai,
toh aadishakti ka bhi roop hai,
jo chaahe toh laade bhuchaal,
aur chaahe toh kar de khud ka vinaash,

स्त्री ही स्त्री की होती दुश्मन,
या स्त्री ही दूसरी स्त्री की बन ताकत,
आदिशक्ति जगदम्बा का रूप कहलाती,
जो समय आने पर बन जाती भद्रकाली।
Stree hi stree ki hoti dushman,
ya stree hi dusri stree ki bane taakat,
aadi shakti jagdamba ka roop kehlaati,
jo samay aane par ban jaati bhadrakaali.

Writer:- Pinki Khandelwal

Violence against Women poem
Violence against women poem

Download Image

चाहता नही है हो बेटियां घर में
लेता है जो जन्म किसी बेटी से,
चाहता….
Chaahta nahi hai vo betiya ghar me,
leta hai jo janam kisi beti se,
chaahta…

जन्म लेती है जो बेटी तो,
नाक मुह को सिकोड़े,
जाने क्यों ऐसा करना है।
चाहता…
Janam leti hai jo beti toh,
naak muh ko sikode,
jaane kyon aisa karna hai.
chaahta..

आते है जब नवरात्रे तो,
यही आदमी कचीका,
घर बिठवाता है और भोज करता है,
कर के ऐसा खुद को माता का भक्त दर्शाना है।।
चाहता……
Aate hain jab navratre toh,
yahi aadmi kachika,
ghar bithvaata hai aur bhoj karta hai,
karke aisa khud ko mata ka bhakt darshaana hai..
chaahta…

नही गर है प्यार बेटियो से तो क्यों
नवरात्रे पे ढोंग करता है।।
चाहता….
Nahi agar hai pyaar betiyon se toh kyon,
navratre pe dhong karta hai.
chaahta…

बेटियो को जो बेच के जो,
मजबूर दिखता है,
जाने कैसा वो है भक्त
क्यों फिरवो नवरात्र मानना है।।
चाहता….
Betiyon ko jo bech ke jo,
majboor dikhta hai,
jaane kaisa wo hai bhakt,
kyon fir wo navratra maanna hai,
chaahta…

Writer:- Sukhminder Singh Khalsa

Violence against Women poem
Poem On Women In Hindi

Download Image

Violence Against Women Poem In English

She !

She is soft but brave,
She is strong though she craves
for those whom she cares with all her love.
She is humble, not a slave
of her own thoughts or views,
that she believes and reviews.
She is clear though has a doubt for a few!
Things that keep reminding her
about the dreams that she drew
In her mind and heart.
To set apart between the reality and
her cloud of dreams
which is a little far it seems.
For sure she tries and will try more
To know, achieve, and explore!

Writer:- Garima Sudan

Violence against Women poem
Poem On Women In English

Download Image

When a girl born
All pleasure gone
All feel her unwanted

And think her
Only a burden
On their shoulders

Why such unfairness
Don’t they remember
Rani Lakshmi Bai

On Navratri all
Pray and bow down
To Durga MA

Will Durga MA will
ever
Give blessing to those who
Don’t value and respect girls

Oh! men just open your eyes
No house is a home
Where there is no girls

Just respect and love her
And then see
what can she do for you

No girl is weak
She has strength and power
There is Durga in each girl

Writer:- Shabana Firdaus

Violence against Women poem
Poem On Women In English

Download Image

What’s expected of a woman?

What is expected of a woman?
She’s expected to leave her home and stay with her man.

She’s expected to change her surname,
And if she opposes this, she is considered lame.

She’s expected to move away from her family,
And if she prefers to stay some more, she is labeled silly.

She’s expected to work day and night,
She’s considered wrong even when she’s right.

She’s expected to leave her job and stay at home,
She’s not allowed to leave the home alone.

She’s expected to obey everyone,
Even when she’s respected by only some.

And you ask, what is expected of a woman?
She’s expected to give birth only to a son.

These things are so common, girls are suffering,
They’re bearing it silently, without once complaining.

Writer:- Aarushi Giria

Violence against Women poem
Poem On Women In English

Download Image

“Violence against women poem” ke saath ruthaaashiq ne aur bhi original content reference diye hai. Youtube poem dahej ek original “short poem video on violence” hai. Emotional hona aur saath hi new generation me aisa contribution karna ke “stop violence poems” agli baar submission me aaye hi na. Umeed hai “poem on women in hindi” ab jab rutha aashiq ko present karne ki baari aaye toh usme aurat ki saath khushiya aaye na ki dard. Embrace woman and embrace womanhood.

Spread The Love

0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published. Required fields are marked *