Shayari On Kalam(‘कलम’)

Published by Rutha Aashiq on

Shayari on kalam in hindi

Shayaron ki basti me, shayari on kalam na ho toh kya baat hai…..Writer ki duniya me unka asset bhi aur hathiyaar bhi kalam hi hai….Shabd hi gaane hai aur shabd hi badlaav ke beej…Kuch shabd ae kalam ki jugalbandi padhna aur kala ki iss pyaare topic par writer aur reader ko sarahana….

Shayari On Kalam

Shayari On Kalam

 
कलम, बंद दिल के दरवाजे की चाबीं हैं!
कलम, घने अंधेरे में चमकती दीपक की रोशनी हैं!
Kalam , band Dil k darwaje ki chabi hai ,
Kalam , ghane andhere me chamakti deepak ki roshani hai !
Shayari On Kalam
कलम, कल, आज और कल की पिढी की संजीवनी हैं!
कलम, डगमगाते हुये दिल का सहारा हैं!
Kalam , kal , aaj or kal ki peedhi ki sanjeevani hai ,
Kalam , dagmagate huye dil Ka Sahara hai !
Shayari On Kalam
कलम, तुटे हुई रूह का किनारा हैं!
कलम, कागज के हर एक पन्ने की संगिनी हैं!
Kalam , tuti hui ruh Ka kinara hai ,
Kalam , kagaz k har ek panne ki sangini hai !
Shayari On Kalam
कलम, खुश हुये शायर की आरजू हैं!
कलम, रूठें हुये लेखक की आफजू हैं!
Kalam , Khush huye shayar ki aarzu hai ,
Kalam , ruthe huye lekhak ki aafazu hai !
Shayari On Kalam
कलम, हर एक किताबं की लेखनी हैं!
कलम, मेरे यह लिखान की ग्वाही हैं!
Kalam , har ek kitaab ki lekhni hai ,
Kalam , mere yeh likhan ki gawahi hai !
Shayari On Kalam
कलम, प्यार हैं, सुकुन हैं, विश्वास हैं, जिंदगी हैं!
Kalam , pyaar hai , sukoon hai , vishwas hai , jindagi hai !

Writer:- Devyani Borade

 
इश्क़ की किताब की दास्तां कुछ  ऐसी है,
के लिखते लिखते कलम थक जाए,
फिर भी ये कहानी अधूरी ही रह जाती है।
Ishq ki kitaab ki dastaan kuchh esi hai ,
Ki likhte likhte kalam thak Jaye ,
Fir bhi ye kahani adhuri hi rah jati hai .
Shayari On Kalam
 Writer:- Nikhil
Instagram:-  @njnik_jain
आवाज़ नहीं मगर शोर बहुत होता है,
कलम की गेहराई में – किस्सा काला होता है…
Aawaj nhi magar shor bahut hota hai ,
Kalam ki gahrai me kissa Kala hota hai.
Shayari On Kalam
कभी अनुशासन और कानून बन जाती है,
कभी बगावत सी समाचार बन जाती है…
Kabhi anushashan or kanun ban jati hai ,
Kabhi bagawat si samachar ban jati hai.
Shayari On Kalam
भीड़ भीड़ को बातें बन जाती है,
भीड़ की अंदर की एक बात बन जाती है…
Bheed bheed ki baaten ban jati hai ,
Bheed k andr ki ek Baar ban jati hai.
Shayari On Kalam
एक कपड़ा जज़्बात का,
नए शब्द में ये कलम नया लिबाज बन जाती है..
Ek kapda jazbaat Ka ,
Naye shabd me ye kalam Naya libaaj ban jati hai.
Shayari On Kalam
Writer:- Priyanka Pandya
Instagram:-  poetpriyu
कलम से हम अपना अंदाज़ बयां करते है ।
कलम से ही अपने जज़्बात लिखा करते है ।
Kalam se ham apna andaaz byan Krte hai
Kalam se hi apne jazbaat Likha Krte hai !
Shayari On Kalam
कलम से ही आगाज़ और अंजाम बया करते है ।
कलम से हम दर्द का बदला लिया करते है।
Kalam se hi aagaaz or anzaam byan Krte hai
Kalam se ham dard Ka badla Kiya Krte hai !
Shayari On Kalam
Writer:- Atul Kumar
Instagram:-  atulkumar17720

Kalam ki taakat par shayari , kavita har kalakaar ka sneh hai. Iski taakat par itihaas badal gaye toh kabhi jazbaat. kabhi kalam se kahani bani toh kahaani ae kalam…

कलम मेरा हतियार  है ,
ये कलम मेरा दीदार है
Kalam Mera hathiyaar hai ,
Ye kalam Mera deedar hai.
Shayari On Kalam
हर लेखक के हुनुर  की ,
ये सुनहरी पहचान है
Har lekhak k hunar ki ,
Ye sunhari pahchan hai.
Shayari On Kalam
हर सवाल का जवाब ,
इस  कलम  से लिखा हर बार है
Har sawal Ka jawab ,
Is kalam se likha har Baar hai.
Shayari On Kalam
ना ये दगाबाज है ,
ना  मैं होशियार कलाकार हूं
Na ye dagabaaz hai ,
Na main hoshiyar kalakaar hun.
Shayari On Kalam
बस इस कलम में  छुपा हुआ ,
हर  लेखक का  संसार है
Bs is kalam me chhupa hua ,
Har lekhak Ka sansar hai.
Shayari On Kalam
ख़ुदा ने आशीर्वाद में ,
कलम दी है लेखक को
Khuda ne aashirvaad me ,
Kalam Di hai lekhak ko.
Shayari On Kalam
जिसे प्राप्त करना ,
उसका सौभग्य है
Jise prapt krna ,
Uska saubhagya hai.
Shayari On Kalam
कलम ही लेखक का ईमान ,
जान ,और सारा जहान है ।
Kalam hi lekhak Ka imaan
Jaan , or Sara jahaan hai.
Shayari On Kalam

Writer:- Chinsha bhatia
Instagram:-  @_born_to_fly5 
आसमान का भी सिर झुके,
ऐसी ताकत है मेरी कलम  में।
Aasmaan Ka bhi sir jhuke ,
Esi takat hai meri kalam me.
Shayari On Kalam
इस दुनिया की कोई भी शक्ति,
नही तोड़ सकती मेरी कलम को।
Is duniya ki koi bhi Shakti ,
Nahi tod skti meri kalam ko.
Shayari On Kalam
हर नारी के लिए मैं कलम उठाती हू,
हर मर्द के लिए मैं कलम उठाती हू ।
Har naari k liye mai kalam uthati hun ,
Har mard k liye mai kalam uthati hun
Shayari On Kalam
समाज के लिए समाज से लड़ती हूँ,
मै अपनी कलम के साथ।
Samaj k liye samaj se ladti hun ,
Main apni kalam k sath.
Shayari On Kalam
कलम है मेरी तलवार इस जग में,
ना झुकेगा सिर, न रुकेगा ये दिल।
Kalam hai meri talvaar is Jag me ,
Na jhukega sir , n rukega ye Dil .
Shayari On Kalam
चलो सब मेरे साथ इस जंग में,
हमारे कल के लिए आज लड़ेंगे।
Chlo sab mere sath is jang me,
Hamare kal k liye aaj ladenge.
Shayari On Kalam
चलो सब कलम के साथ इस जग में,
अन्याय का न्याय में बदलने के लिए।
Chalk sab kalam k saath is Jag me,
Anyay Ka nyay me badlane k liye.
Shayari On Kalam
Writer:- Aysha Nihidha
Instagram:-  with_love_ash 

Kalam ki awaaz ki iss goonj me gehre jazbaat hai..Hum is pen paper ko digital world me le aaye hai. Kisi puraani kitaab me mere lafzo ko mene jab padha toh socha ye saare lafz sab kaaano tak aur aankho tak laaye…Sach kahu toh dil aur dimaag ko dastak dene ke laayak hai ye bheek kalamkaari shabd…Aap bhi hume apna content comment kare aur email pe contact kare humare blog par feature karne🤗.“Shayari On Kalam”

Read more post of our “Guest Writers

Spread The Love

3 Comments

NAINA · January 9, 2021 at 10:38 pm

It’s amazing 💞💞💞

    Siddharth · January 16, 2021 at 8:34 pm

    It’s amazing really read something fresh 🥺😘

Best Republic Day Poem in Hindi - Rutha Aashiq · January 25, 2021 at 1:05 am

[…] Must Read:- Shayari On Kalam […]

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published. Required fields are marked *