Realistic Hindi Poem

Published by Rutha Aashiq on

realistic hindi poem

Realistic Hindi Poem, Apne aap ko khoj rahe ho, ya apne pyar ko ijahar karna chahte ho ya fir apni family se karte to mohabbat to unhi sari feelings ko dhayn rakhte hain aur Yeh Hindi Poem ka collection hain aapke liye. Isme padhne ko milega hindi poem for family, love poetry in hindi aur hindi poetry on life.

 

Realistic Hindi Poem

 

Realistic Hindi Poem 

 
 

अस्तितव की खोज – Astitv ki khoj

क्या मैं हूँ
क्या मैं नहीं हूँ
प्रतिक्षण स्वयं से सवाल करती हूँ
अपने जीवन के उद्देश्य पर,
अपने अस्तित्व पर, विचारों का गंभीर प्रहार करती हूँ
किसी व्यक्ति के लिए भावनाओं का जागृत होना
रिश्तों से बंधकर जीवन को जीना
अपने साँचे को दूसरे के अनुसार ढालना
क्यूँ मैं ये नियमानुसार करती हूँ
क्या मैं हूँ
क्या मैं नहीं हूँ
प्रतिक्षण स्वयं से सवाल करती हूँ
मुझे चोंट लाने पर
किसी और का दर्द के आभास की प्रतिक्रिया करना
मेरी रक्षा हेतु
किसी और का मुझ पर अधिकार करना
मेरे कुछ करने पर, न करने पर
मुझसे बार बार सवाल करना
क्यूँ मैं हर सवाल पर अपना जवाब करती हूँ
क्या मैं हूँ
क्या मैं नहीं हूँ
प्रतिक्षण स्वयं से सवाल करती हूँ
अपने धर्म का, अपने कर्म का
हर पल साक्षात्कार करती हूँ
मैं क्या हूँ
मैं क्यूँ हूँ
प्रतिदिन इस विषय पर असरार करती हूँ
खोजती हूँ स्वयं को,
और स्वयं में ही गुम जाती हूँ
जितना भी मैं प्रयत्न करूँ
हर बार विफल हो जाती हूँ
Realistic Hindi Poem
Kya main hun
Kya main nahi hun
Pratikshan svaym se sawal karti hun
Apne jivan ke uddeshy pr
Apne astitv pr,  Vicharon ka gambhir prahar karti hun
Kisi vyakti ke liye bhavnao ka jagrut hona
Rishton se bandhakar jivan ko jina
Apne sachon ko dusre ke anusar dhalna
Kyu main yeh niyamanusaar karti hun
Kya main hu
Kya main nahi hun
Pratikshan svaym se saval karti hun
Muje chot laane pr
Kisi aur ka dard ke aabhas ki pratikriya karna
Meri raksha hetu
Kisi aur ka muj pr adhikar karna
Mere kuchh karne pr , na karne pr
Mujse baar baar saval karna
Kyu main har saval pr apna javab karti hun
Kya main hun
Kya main nahi hun
Pratikshan svaym se saval karti hun
Apne dharm ka, apne karm ka
Har pal sakshtkar karti hun
Main kya hun
Main kyu hun
Pratidin is vishay pr asraar kartihun
Khojati hun svayam ko,
Aur svyam main hu hum jaati hun
Jitna bhi main praytn karu
Har bar vifal ho jati hu
 
 

कलयुग – Kalyug

जहाँ सच को सब नष्ट करते हैं
झूठ ज़ुबाँ पर रहता है
माया को जीवन पूर्ण समझ
जज़्बातों का खेला होता है
जहाँ जीवन सिर्फ दिखावे का है
अपने भी वरना गैर है
मीठा तो सिर्फ जुबान पर है
मन में सबके कैर है
जहाँ हँसी खुशी लोगों की अब
गैरों पर निर्भर करती है
जहाँ झूठ में सबकी हाँ है
और सच्चाई हमेशा डरती है
अपनों से ज्यादा लोग जहाँ
गैरों पर विश्वास जताते हैं
जहाँ मतलब पूरा करने को
सब जिगरी बन जाते हैं
जहाँ नेता अपने पद पर रह
मजबूर की हँसी उड़ाता हैं
जहाँ media का channel
पैसों के आगे झुक जाता हैं
अब हर कोई इंसान यहाँ
 बस जुर्म की गाथा गाता है
Realistic Hindi Poem
Jahan sach ko sab nasht karte hain
Zuth juban pr rahta hain
Maya ko jivan purn samaj
Jajbaato ka khel hota hain
Jahan jivan sirf dikhave ka hain
Apne bhi varna ger hain
Mitha to sirf juban pr hain
Man main sabke kair hain
Jahan hansi khushi logo ki ab
Gairo pr nirbhar karti hain
Jahan juth main sabaki hain hin
aur sachaai hamesha darti hain
Apno se jyada log jahan
Gairo pr vishwas jatate hain
Jahan matalab pura karne ko
Sab jigari ban jaate hain
 Jahan neta apane pad pr rah
 Majboori ki hansi udata hain
 Jahan media ka channel
 Paiso ke aage zuk jaata hain
 Ab harkoi insan yaha
 Bs jurm ki gatha gata hain

बचपन की यारी – Bachapn Ki Yaari 

Bachpan ke sare rishte bina kisi bhedbhav aur lalach se bane the aur usme se sabse pyara tha Dosti ka rishta to unhi kuchh kamine dosto ko aaj fir yaad karte hain yeh Hindi Poem For Bestfriend padh kar.

काश वो कल वापस लौट आये
काश वो पल वापस लौट आये
जब बिन मतलब की हमारी यारी थी
जब ये दोस्ती हमारी सब पर भारी थी
रूठना मनाना तो रोज़ का काम था
हर moment पर सबका कुछ अलग सा नाम था
साथ में बैठकर खाना खाते थे
किसी के भी lunch पर अपना हाथ साफ कर जाते थे
जात पात का तो किस्सा ही अंजाना था
दोस्तों के दिलों में ही अपना ठिकाना था
आज भी याद आते हैं वो पल
आँखों में नमी के साथ
लवों पर मुस्कान के साथ
वो सारी शरारतें याद आती है आज भी
वो दोस्ती याद आती है आज भी
हाथ पकड़कर साथ में चलते थे
मस्ती में ही अपने सारे दिन गुजरते थे
बाहर की दुनिया का तो पता ही नहीं था
क्योंकि उस time दिमाग़ में कुछ आता ही नहीं था
आँखों के आँसू भी दिल को नही छूते थे
झगड़े तो हमारे बस दो पल के लिए होते थे
किसी के भी घर चोरी से घुस जाते थे
पेड़ों से फल तोड़ आराम से खाते थे
पकड़े जाने पर, मैंने नहीं किया
झूठ बोलकर भाग जाते थे
वो सारी शरारतें याद आती है आज भी
वो दोस्ती याद आती है आज भी

Realistic Hindi Poem

Kaash voh kal vaaps laut aaye
Kaash voh pal vapas laut aaye
Jab bin matalab ki hamari yaari thi
Jab ye dosti hamari sab pr bhari thi
Ruthna manana to roj ka kaam tha
Har moment pr sabka kuchh alag sa naam tha
Saath main bethkar kahna khate the
Kisi ke bhi lunch pr apna haath saaf kar jaate the
Jaat paat ka to kissa hi Anjaana tha
Dosto ke dilo main hi apna thikana tha
Aaj bhi yaad aate hain voh pal
Aankho main nami ke saath
Lavo pr muskan ke saath
Vo sari sararate yaad aati hain aaj bhi
Voh dosti yaad aati hain aaj bhi
Haath pakdkar saath main chalte the
Masti mian hi apne saare din gujarate the
Bahar ki duniya ka to pata hi nahi tha
Kyuki us time dimag main kuchh aata hi nahi tha
Aankho ke aansu bhi dil ko nahi chhute the
Jagade to hamare bs do pal ke liye hote the
Kisi ke bhi ghar chori se ghus jaate the
Pedo se fal tod aaram se khate the
Pakde jaane pr mene nahi kiya
Juth bol kar bhag jate the
Vo sari sararate yaad aati hain aaj bhi
Voh dosti yaad aati hain aaj bhi

इश्क़ का इज़हार – Ishq ka ijahaar

Pyar to ho gaya pr use ijahar karne ka jo samay ya jo moka tha hamne har baar voh mahsoos kiya hoga kabhi kuchh to kabhi kuchh problem ya kabhi thodi hichkichahat hui hogi to unhe taaja karo aaj love poetry in hindi padh kar jo apko apne pahle ijahar ko yaad kara degi.

क्या अपने इश्क़ का इज़हार कर रहे हो
कह भी दो, क्यूँ बेकरार कर रहे हो
ऐ मेरी आँखों से नींद चुराने वाले
ज़रा बता भी दो
कि मुझे कब अपना दिलदार कर रहे हो
मैं बैठी हूँ
तेरे इंतेज़ार में पलके बिछाए
कब तुम मेरा असरार कर रहे हो
ऐ मेरी आँखों से नींद चुराने वाले
ज़रा बता भी दो
कि मुझे कब अपना दिलदार कर रहे हो
जहाँ जाते हो,
हर जगह हम दोनों के नाम का इश्तेहार कर रहे हो
ज़रा बता भी दो
कि मुझे कब अपना दिलदार कर रहे हो
कि मुझे कब अपना दिलदार कर रहे हो
Realistic Hindi Poem
Kya apne ishq ka ijhar kar rahe ho
Kah bhi do, kyu bekarara kar rahe ho
E meri aankho se nind churane vale
Jara bata bhi do
Ki muje kab apna dildar kar rahe ho
Main bethu hun
Tere intejaar main palake bichhaye
Kab tum mera Asrar kar rahe ho
E meri aankho se nind churane vale
Jara bata bhi do
Ki muje kab apna dildar karr rahe ho
Pahle sirf ishq the
Ab ibadat ho gaye ho
Meri zindagi ki
Kabhi na badalne vali hakikat ho gaye ho
Main sochti rahi hun
Aajkal tuje har ghadi
Meri jivan ki sabse upari ahamiyat ho gaye ho
Aakhir kyu khud ko shaharyaar kar rahe ho
Jara bata bhi do
Ki muje kab apna dildar kar rahe ho
Jah jaate ho
Har jagah ham dono ke naam ka ishtehar kar rahe ho
Jara bata bhi do
Ki muje kab apna dil dar kar rahe ho
Ki muje kab apna dil dar kar rahe ho

You May Also Like:-  Reality English Quotes

अपने – Apne 

Family hi to hain sab kuchh, mana ki thoda samay leti hain hame samjne main pr hamesha hamara bhala hi sochegi. Usme bhi Papa, Mummy aur bhai bahen ka rishta to atoot hona chahiye, jo hindi poem for family aapko jatayegi aur samjayegi bhi kyu har ek rishta jaroori hain family ka.

मैं डरती हूँ अंधेरे से
परछाई मुझे डराती है
पर जब माँ थामती है हाथ मेरा
सारा डर खत्म हो जाता है
मैं डरती हूँ ऊँचाई से
गहराई मुझे डरती है
पर जब बाबा थामते हैं हाथ मेरा
सारा डर खत्म हो जाता है
मैं डरती हूँ तन्हाई से
अकेलापन मुझे डराता है
पर जब दीदी थामती है हाथ मेरा
सारा डर खत्म हो जाता है
मैं डरती हूँ दुनिया से
लोगों की नज़रें मुझे डराती है
पर जब भाई थामता है हाथ मेरा
सारा डर खत्म हो जाता है
मैं डरती हूँ ज़िंदगी खोने से
रुसवाई मुझे डराती है
पर जब दोस्त थामते हैं हाथ मेरा
सारा डर खत्म हो जाता है
Realistic Hindi Poem
Main dartihu andhere se
Parchhai muje daratihain
Pr jab maa thamti hai haath mera
Sara dar khatm ho jata hain
Main darti hu unchai se
Gaharai muje darati hain
Pr jab baba thamte hain haath mera
Sara dar khatm ho jata hain
Main darti hu tanhai se
Akelapan muje darata hain
Pr jab didi thamti hain haath mera
Sara dar khatmho jata hain
Main darati hu duniya se
Logo ki najare Muje darati hain
Pr jab bhai thamta hain haath mera
Sara dar khatm ho jata hain
Main darati hun zindagi khone se
Rusavai Muje darati hain
Pr jab dost thamte hain hath mera
Sara dar khatm ho jata hain

Writer:-  Vandana Nagar

Spread The Love

2 Comments

Heart Touching Sad Love Quotes In Hindi With Images – Rutha Aashiq – Rutha Aashiq · December 30, 2020 at 7:55 pm

[…] sakte hai. Hum aur bhi mazedaar post banaane ke lie aapse judte rahenge. You May Also Like:- Realistic Hindi Poem  Writer:- Aman Khan Instagram:- […]

Interesting 2020 Worst Year Quotes - Rutha Aashiq · February 13, 2021 at 10:08 pm

[…] You May Like:- Realistic Hindi Shayari […]

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published. Required fields are marked *